14150. तू है कितना अज़ीम

1 ऐ मेरे रब्ब जब हैरत में देखता हूँ
और सोचता तेरी कुदरत का कमाल
आसमान के तारे बादल की गरज़ में
मैं देखता आलम में तेरा जलाल.

कोरस:
तब मेरी रूह तेरी सना गाती
तू है अज़ीम कितना अज़ीम
तब मेरी रूह तेरी सना गाती
तू है अज़ीम कितना अज़ीम.

2 जब जंगल वादी में, मैं फिरता रहता
और सुनता चिड़ियों की सुहानी राग
और पर्वत की हवा और नदियों में
मैं देखता हूँ एक आसमानी मार्ग. [कोरस]

3 जब सोचता हूँ कि मेरे रब्ब ने प्यार से
भेजा था अपने बेटे को यहां
कि मेरा बोझ सलीब पर वह उठाए
और ख़ून बहा कर फिदया दे वहां. [कोरस]

4 जब येसु तू आयेगा मुझे लेने
आसमान पर होगी एक आवाज़ हलीम
फिर झुक कर मैं सिजदे गाऊंगा, रब्ब
और पुकारूंगा तू ही है अज़ीम. [कोरस]

Text Information
First Line: ऐ मेरे रब्ब जब हैरत में देखता हूँ
Title: तू है कितना अज़ीम
Swedish Title: O store Gud, när jag den värld beskåda
Author: Carl G. Boberg (1886)
Translator: Unknown
Refrain First Line: तब मेरी रूह तेरी सना गाती
Language: Hindi
Copyright: Public Domain
Tune Information
Name: [ऐ मेरे रब्ब जब हैरत में देखता हूँ]
Key: B♭ Major
Source: Swedish Folk Melody
Copyright: Public Domain



Media
MIDI file: MIDI
More media are available on the tune authority page.

Suggestions or corrections? Contact us



Advertisements


It looks like you are using an ad-blocker. Ad revenue helps keep us running. Please consider white-listing Hymnary.org or subscribing to eliminate ads entirely and help support Hymnary.org.